Wednesday, 17 April 2019

अजगर - ए - ' आजम '

फड़फड़ा रहा है
फाड़कर
बीज, विषधर का।

भ्रूण,
कुसंस्कारों की
जहरीली सांपीन का।

ओढ़े 'अधोवस्त्र'
केंचुल का, निकला
संपोला।

फूलकर फैल गया है
फुंफकारता अब, काढ़े फन।
अजगर - ए - ' आजम '!

.......... ..........

श्श.. श्श... श्श....
सांप सूंघ रहा है
सर्प संप्रदाय को अब!

38 comments:

  1. मेरे आज़म को न तुम कुछ भी कहो,
    सांप्रदायिक ज़हर उसकी शान है

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा ... कोई पत्थर से न मारे मेरे दीवाने को! अत्यंत आभार!!!!

      Delete
  2. साँपों के बीच साँप

    सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! सत्य-शोधन!अत्यंत आभार!!!

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "मुखरित मौन में" शनिवार 20 अप्रैल 2019 को साझा की गई है......... https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके आशीष का!!!

      Delete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 17/04/2019 की बुलेटिन, " मिडिल क्लास बोर नहीं होता - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  5. सच अद्भुत विचार दृष्टि।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  6. वाह बहुत खूब लिखा आपने 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  7. फड़फड़ा रहा है
    फाड़कर
    बीज, विषधर का।....बेहतरीन 👌
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  8. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है। https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2019/04/118.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. वाह!!!!
    क्या बात है...
    बहुत लाजवाब।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!

      Delete
  10. बहुत खूब् करारा व्यंग मुँहजोर नेता के लिए!! जिनकी बेलगाम ज़ुबान शिष्टाचार और शालीनता छोड़, मर्यादा की सभी सीमाएं लांघ जाती हैं। पर ऐसे लोगों को कैसा डर? बदनाम होंगे तो क्या नाम ना होगा? इसी नीति पर चलते इनकी राजनीति तो चमक ही जाती है। सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपकी सार्थक समीक्षा का!!!

      Delete
  11. करारा और सटीक
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!

      Delete
  12. कुसंस्कार की प्रिवृति ऐसी ही है ...
    कई बार सांप खुद को भी निगल लेते हैं ... अपने अण्डों को ख़ास कर ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य वचन। अत्यंत आभार।

      Delete
  13. बहुत करार व्यंग ... अच्छी रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  14. बहुत सटीक व्यंग...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  15. सटीक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  16. बहुत सटिक व्यंग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  17. आवश्यक सूचना :

    सभी गणमान्य पाठकों एवं रचनाकारों को सूचित करते हुए हमें अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि अक्षय गौरव ई -पत्रिका जनवरी -मार्च अंक का प्रकाशन हो चुका है। कृपया पत्रिका को डाउनलोड करने हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जायें और अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाने हेतु लिंक शेयर करें ! सादर https://www.akshayagaurav.in/2019/05/january-march-2019.html

    ReplyDelete
  18. वाह सटीक, करारा व्यंग्य.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!

      Delete
  19. करार व्यंग विश्वमोहन जी

    ReplyDelete