Tuesday, 30 July 2019

सिऊंठे

मां!
कैसी समंदर हो तुम!
तुम्हारी कोख के ही केकड़े
नोच-नोच खा रहे है
तुम्हारी ही मछलियां।
काट डालो न
कोख में ही
इनके सिऊंठे!
जनने से पहले
इनको।
या फिर मत बनो
मां!




सिऊंठा - केंकड़े के दो निकले चिमटा नुमे दांत जिससे वह काटता या पकड़ता है, भोजपुरी, मैथिली, वज्जिका, अंगिका और मगही भाषा मे उसे सिऊंठा कहते हैं।

28 comments:

  1. Replies

    1. जी नमस्ते,
      आपकी लिखी रचना शुक्रवार २ अगस्त २०१९ के लिए साझा की गयी है
      पांच लिंकों का आनंद पर...
      आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद

      Delete
  2. विश्वमोहन भाई, बहुत सुंदर रचना। लेकिन किस माँ को पता होता हैं कि उसके द्वारा पैदा किए केकड़ों को सिऊंठे उग आएंगे? क्योंकि कोई भी माँ नहीं चाहती कि उसके बच्चे गलत राहों पर चल पड़े।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, सही कहा। यहीं तो वेदना है। कितना छलित होता है मातृत्व जब वह सोचने को विवश हो जाय कि बांझपन ही अच्छा इन केकड़ों को जनने से!
      अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  3. सही कहा काट डालो माँ इनके सिउंठे...
    क्योंकि .....
    माँ है तू सृजन है तेरे हाथ में
    अब तेरे कर्तव्य और बढ़ गये
    बहुत लाजवाब रचना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! बहुत सुंदर। अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  4. पेट का सिऊंठे ना भी काट सके क्यों कि नहीं पता कि पात्र कि कुपात्र तो जन्म देने के बाद नजर रखे और उतार दे गर्दन से सर जब कुपात्र लगे
    पुरुषों द्वारा रचित ऐसी रचना ज्यादा मर्मस्पर्शी होती है
    साधुवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. एकदम सटीक. जी, अत्यंत आभार आपका!!

      Delete
  5. निशब्द!
    साथ सही काश...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!!!!

      Delete
  6. सारगर्भित रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!!!

      Delete
  7. Waah! Maa ke prati is kadar ki rachna dekh kar maa ki yaad a gayi.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  8. बहुत मर्मस्पर्शी, लेकिन काश माँ ऐसा कर पाती।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  9. एक पुकार माँ से माँ लिये ... पर वो भी तो माँ है ... कहाँ मानती है बच्चों के लिए ... कुछ भी ... मर्म को छूते हुए भाव ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुंदर प्रतिक्रिया। आभार।

      Delete
  10. हर माँ चाहती है ,कि उसकी संतान संस्कारी और समाज के लिए कल्याणकारी हो, पर वो माये अभागी होती हैं, जिन्हें अपने जीवन में ऐसा दिन देखने को मिलता है जब उसका मातृत्व शर्मशार होता है। सार्थक रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य वचन। अत्यंत आभार।

      Delete
  11. माँ है तू सृजन है तेरे हाथ में
    अब तेरे कर्तव्य और बढ़ गये
    बहुत लाजवाब रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बहुत बहुत आभार आपके आशीष का।

      Delete
  12. माँ है तू सृजन है तेरे हाथ में
    अब तेरे कर्तव्य और बढ़ गय......बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete