Friday, 23 August 2019

गांधी को महात्मा बना दिया

सींच रैयत जब धरा रक्त से
बीज नील का बोता था।
तिनकठिया के ताल तिकड़म में
तार-तार तन धोता था।

आब-आबरू और इज़्ज़त की,
पाई-पाई चूक जाती थी।
ज़िल्लत भी ज़ालिम के ज़ुल्मों ,
शर्मशार झुक जाती थी।

बैठ बेगारी, बपही पुतही,
आबवाब गड़ जाता था।
चम्पारण के गंडक का,
पानी नीला पड़ जाता था।

तब बाँध कफ़न सर पर अपने,
पय-पान किया था हलाहल का।
माटी थी सतावरिया की,
और राजकुमार कोलाहल का।

कृषकों की करुणा-गाथा गा,
लखनऊ को लजवा-रुला दिया।
गांधी की काया-छाया बन,
अपना सब कुछ भुला दिया।

काठियावाड़ की काठी सुलगा,
चम्पारण में झोंक दिया।
निलहों के ताबूत पर साबुत
कील आखिरी ठोक दिया।

'सच सत्याग्रह का' सपना-सा,
भारत-भर ने अपना लिया।
राजकुमार न राजा बन सका,
गांधी को महात्मा बना दिया।

(शब्द-परिचय:-
राजकुमार - पंडित राजकुमार शुक्ल (१८७५-१९२९)
कोलाहल - श्री कोलाहल शुक्ल, राजकुमार शुक्ल के पिता
चम्पारण सत्याग्रह की नींव रखने वाले राजकुमार शुक्ल गांधी को
चम्पारण बुलाकर लाये और सबसे पहले सार्वजनिक तौर पर उन्हें 'महात्मा' संबोधित कर जनता द्वारा 'महात्मा गांधी की जय' के नारों से चम्पारण के गगन को गुंजित किया। आगे चल के महात्मा गांधी ही प्रचलित नाम बन गया।
तिनकठिया - एक व्यवस्था जिसमें किसानों को एक बीघे अर्थात बीस कट्ठे में से तीन कट्ठे में नील की खेती के लिए मजबूर होना।
आबवाब - जहांगीर के समय से वसूली जाने वाली मालगुजारी जो अंग्रेजो के समय में चम्पारण में पचास से अधिक टैक्सों में तब्दील हो गयी। जैसे:-
बैठबेगारी - टैक्स के रूप में किसानों से अंग्रेज ज़मींदारों द्वारा अपने खेत मे बेगार, बिना कोई पारिश्रमिक दिए, खटवाना,
बपही - बाप के मरने पर चूंकि बेटा घर का मालिक बन जाता थ, इसलिए अंग्रेजो को बपही टैक्स देना होता था।
पुतही- पुत्र के जन्म लेने पर अंग्रेज बाप से पुतही टैक्स लेते थे।
फगुआहि- होली में किसानों से वसूला जाने वाले टैक्स)




24 comments:

  1. सारगर्भित रचना।
    बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  2. आदरणीय विश्वमोहन जी , वही कलम सार्थक है जो अपने जननायकों के प्रशस्तिगान रचती है |इस काव्य चित्र के माध्यम से आपने इतिहास की उस घटना को याद दिलाया है जिसने ब्रिटिश साम्राज्यवाद को खुली चुनौती दी थी | नील की खेती करने को विवश होते किसान और उनकी दुर्दशा से आहत राजकुमार शुक्ल का करमचंद गाँधी को निमंत्रण के उद्देश्य की पूर्ति की शायद उतनी आशा नहीं थी जितना गाँधी जी के चम्पारण आकर निष्कलुषता से किसानों के दुखदर्द दूर करने की उनकी विराट भावना ने इसे बना दिया था | अवैध कर वसूली और अंग्रेजों की बर्बरता से जूझते किसानों के लिए इन जननायकों ने जो किया , उसने इतिहास को स्वर्णिम बना दिया | चम्पारण की धरा पर गाँधी जी के सद्गुणों पर रीझे राजकुमार शुक्ल जी के ' महात्मा ' संबोधन ने गाँधी जी को ' महात्मा गाँधी ' बना दिया जिसके लिए इतिहास राजकुमार शुक्ल जी का ऋणी रहेगा जो सचमुच राजकुमार ' नाम ' के होते भी सत्ता सुख भोगने के लिए राजा ना बन सके पर दुनिया को गांधी नाम के महात्मा से जरुर परिचित करवा दिया साथ में सत्याग्रह को सफल कर दिखाया | | सार्थक रचना जिसके लिए कोई सराहना पर्याप्त नहीं बस मेरी शुभकामनायें | सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, वहुत आभार इस सप्रसंग विवेचना का।

      Delete
  3. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें और बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय श्री कृष्ण, राधे-राधे!!! आपको भी सपरिवार शुभकामनाएं।

      Delete
  4. इतिहास के एक प्रष्ट को सबके सामने रख दिया और वो भी एक लाजवाब रचना से ...
    बहुत उत्तम लेखन ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete

  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना 28 अगस्त 2019 के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!!!!

      Delete
  6. वाह!!विश्वमोहन जी ,बहुत खूब!आपनें तो पूरा इतिहास याद दिला दिया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!!

      Delete
  7. विश्वमोहन भाई,गांधी जी का महात्म्य बतलाती बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  8. परिवर्तन की हवा बनकर जन्में सुंदर व्यक्तित्व के धनी धरती पुत्र शुक्ल जी के व्यक्तित्व और चंपारण प्रसंग को अपनी रचना में बेहद खूबसूरती से प्रस्तुत किया है आपने। भारत के इतिहास में उनका एक अहम योगदान है इस बात का अहसास कराती सार्थक रचना हेतु हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।
    सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बहुत आभार कि आपने तन्मयता से इस रचना को परखा।

      Delete
  9. इतिहास के प्रसंग आप के द्वारा रचित काव्य रूप में पढ़ने को मिलते तो शायद इतिहास मेरे लिए भी रूचिकर विषय रहता....ऐतिहासिक प्रसंग पर बहुत ही लाजवाब काव्यरचना के लिए बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं...।



    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बहुत आभार। कहीं आपके ये स्नेहिल आशीष हमें इतिहास-गीतकार न बना दे - अतीत का चारण!

      Delete
  10. वाह बेहद उत्कृष्ट लेखन ....

    ReplyDelete