Thursday, 4 March 2021

इंद्रधनुषी दुनिया: बूढ़ा सुग्गा पोष नहीं मानता!


आदरणीय अपर्णा जी एक जानी-मानी ब्लॉगर हैं। साहित्य सेवा के साथ-साथ समाज-सेवा भी उनके जीवन का महत यज्ञ है जिसे पूरी तन्मयता से मनसा, वचसा और कर्मणा वह झारखंड राज्य के सुदूर आदिवासी इलाक़ों में सम्पादित कर रही हैं। ‘एकजुट’, ‘सहभागी शिक्षण केंद्र’,  ‘पेस’, ‘AID’ इत्यादि सामाजिक संस्थाओं के साथ माता,शिशु, किशोरी और महिलाओं के स्वास्थ्य, पोषण, स्वच्छता और लैंगिक अधिकारों के लिए कार्य करते हुए वर्तमान में स्वतंत्र प्रशिक्षक और सामाजिक अनुसंधानकर्ता के रूप में झारखंड और निकटवर्ती राज्यों में चल रही कुछ परियोजनाओं में वह अहर्निश  संलग्न हैं । बच्चों के व्यक्तित्व में  चारित्रिक और नैतिक पक्ष को विकसीत करने और उन्हें अपनी माटी के सांस्कृतिक मूल्यों से जोड़ने के लियी अपर्णा जी ने अपने यू- ट्यूब चैनल ‘इंद्रधनुषी दुनिया’ माध्यम से एक अत्यंत महत्वपूर्ण अभियान चलाया है। बच्चों को सरल और सरस माध्यम से शिक्षित करने में उनका यह प्रयास अत्यंत सराहनीय है और समाज के सभी शिक्षित जनों के सहयोग की अपेक्षा भी रखता है। उसी क्रम में बच्चों के लिए  उनके द्वारा प्रस्तुत मेरी यह कविता आपके सामने है। 

एक बात और बता दूँ कि अपर्णा जी ने मुझसे आग्रह किया कि सीखने वाले बच्चों को ध्यान में रखते हुए तत्सम शब्दों का प्रयोग कम करें। मेरा यही उत्तर था कि सीखने वाले के लिए सभी शब्द नए और एक समान होते हैं। यह कठिनाई सीख चुके और बड़े- पढ़े लोगों के साथ है। एक कहावत भी है, ‘बूढ़ा सुग्गा पोष नहीं मानता’। 


22 comments:

  1. उपयोगी आलेख।
    "बूढ़े तोते तो ब्लॉगिंग भी सीख गये हैं अब"

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, सीख ही नहीं बल्कि शीर्ष पर विराजमान है😀😀🙏🙏🙏किन्तु, यह एक अपवाद वाली प्रक्रिया है।

      Delete
  2. बहुत बढ़िया बालकविता लिखी आपने विश्वमोहन जी,बच्चे जानवरो और पक्षियों के नाम के साथ उनकी बोली भी सीखेंगे..अनूठा प्रयास है आपका..

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर,
    हमारा प्रयास रंग लाये, बच्चों के लिए हम कुछ रचनात्मक कर सकें, इस प्रयास में आप का साथ बना रहे और मार्गदर्शन यूं ही मिलता रहे।
    ब्लॉग पर साझा करने के लिए आप का सादर आभार। हमारे और भी साथी इस प्रयास में साथ आना चाहें तो उनका स्वागत है।
    मेरे mail id पर सम्पर्क कर सकते हैं।
    bajpaiaparna2016@gmail.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. ईश्वर आपके इस सुंदर काम में सफलता के चार चाँद लगाए। चरैवेति! चरैवेति!!🙏🙏🙏

      Delete
  4. आदरणीया अपर्णा जी की पहल को नमन। कुछ रचनाओं से मैं भी रूबरू हो चुका हूँ, वे अत्यंत ही प्रभावशाली हैं। मुझे गर्व है कि एक साझा पुस्तक परियोजना में मैं भी उनसे जुड़ पाया था।
    आदरणीय विश्वमोहन जी के इस प्रयास को हमारा नमन। इसी प्रकार नई प्रतिभाओं व रचनाकारों को प्रेरित करते रहें, ताकि हमारी राष्ट्रभाषा समुन्नत होता रहे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके इन आशीर्वचनों और उदात्त भावना का!!! बस यूं ही आशीष मिलता रहे।🙏🙏

      Delete
  5. बाल संस्कार की दिशा में सुंदर प्रेरक प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  6. वाह! बहुत अच्छा कदम अपर्णा मैम! ढेर सारी बधाई सर 🙏🙏🙏
    कृपया हमारे ब्लॉग पर भी आइए और अपनी राय व्यक्त कीजिए 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी अवश्य! अत्यंत आभार आपका!!!

      Delete
  7. Great job 👌👌👌🙏🙏

    ReplyDelete
  8. बढ़िया बालकविता लिखी आपने

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रेरक प्रस्तुति के साथ बढियाँ सोच कि बुढा तोता...
    आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा....बहुत आभार आपकी दृष्टि का!!!

      Delete
  10. सुग्गा को तोता लिख दी..😐

    ReplyDelete