Thursday, 28 October 2021

प्रांतर में प्रातः


 (मित्र विजय ने अंडमान निकोबार से प्रकृति से अपने सीधे संपर्क की यह तस्वीर भेजी। उसी पर आधारित कविता।)



ऊपर वायु नीचे जल था,
मध्य स्वर्ण-सा विरल तरल था।
सागर  स्थिर पारद-तल-सा,
प्रांतर में प्रातः का पल था।

पीत दुकूल बादल का ओढ़े
रवि का थाल चमकता था।
रजत वक्ष पर रश्मिरथी के
पहिये का पथ झलकता था।

द्यौ में दुबका सूरज ढुलका
अंतरिक्ष में अटका था।
वारिद के रग-रग में रक्त-सा
लाल रंग भी टटका था।

बाट जोहती सागर तीर पर,
सद्य:स्नात थी उषा भी।
विस्फारित अलकों में वनिता
प्रणय-पाग पी पूषा की।

प्रतिभास से पूर्ण पुरुष का,
चेतन धरती का अंचल था।
चित्रकला सी सजी प्रकृति,
प्रांतर में प्रातः का पल था।



22 comments:

  1. The flourish of your pen has matched God`s paintbrush !!Beautiful!!

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २९ अक्टूबर २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. आदरणीय विश्वमोहन जी, जितना सुन्दर चित्र उतनी मनमोहक प्रांतर की
    मनमोहक प्रभात की झांकी शब्दों के रूप में सजी है। इस सूक्ष्मता से एक सुदक्ष कविदृष्टि ही प्रकृति को यूं शब्दों में संवार सकती है। अनुप्रास अलंकार से सुसज्जित इस अभिनव शब्दचित्र के लिए हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं।🙏🙏

    ReplyDelete
  4. प्रकृति की सुंदर छटा बिखेरती छवि और चित्र को साकार करती अनुपम काव्यकृति । बहुत शुभकामनाएं आदरणीय विश्वमोहन जी

    ReplyDelete
  5. प्रातः काल का सुंदर वर्णन। अनुपम सृजन।

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    ReplyDelete
  7. द्यौ में दुबका सूरज ढुलका
    अंतरिक्ष में अटका था।
    वारिद के रग-रग में रक्त-सा
    लाल रंग भी टटका था।
    वाह!!!!
    अद्भुत.... प्रांतर में प्रातः के ऐसे मनमोहक पल...शब्द-शब्द ऐसी मनमोहक छवि उकेरता...
    बहुत ही लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete