Wednesday, 15 October 2014

न जाने कलम क्यों जाती थम!

कर अवलोकन इतिहास सृष्टि का, 
दैहिक, दैविक, भौतिक दृष्टि का. 
काल, कल्प, कुल गाथा अनंत की,
सार, असार,सुर, असुर और संत की.
जीव जगत स्थावर जंगम
तत त्वम असि एवम सो अहम.

न जाने कलम क्यों जाती थम!

मधुर मिलन कल, आज विरह है,
मृदुल आनंद, अब दुख दुःसह है.
जीते जय, आज पाये पराजय,
कल निर्मित, अब आज हुआ क्षय.
पहले प्रकाश, अब पसरा है तम,
खुशियों को फिर घेरे हैं गम.

न जाने, कलम क्यों जाती थम!

नदियां पर्वत से उतर-उतर,
मिलते कितने झरने झर-झर.
जल-प्रवाह का राग अमर,
कभी किलकारी, कभी कातर स्वर.
उपसंहार सागर संगम,
क्या, यहीं जीवन का आगम-निगम?

न जाने कलम क्यों जाती थम!

जाड़ा, गर्मी और बरसात,
दिव्य दिवस, फिर काली रात.
जड़- चेतन कण-कण गतिमान,
जीव-जगत का यहीं ज्ञान.
सृष्टि-विनाश अनवरत, ये क्रम,
प्रकृति-पुरुष का है लीला भ्रम.


अब जाने, कलम क्यों जाती थम.

1 comment:

  1. NITU THAKUR's profile photo
    NITU THAKUR
    +1
    tham sakti hai magar zuk nahi sakti,
    akhri sans tak ruk nahi sakti,
    usne muzko janam diya hai,
    uska ye upkar hai,
    mai chahun ya na chahun,
    muzpar uska adhikar hai
    Translate
    Oct 15, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +1
    +Nitu Thakur वाह! बहुत आभार आपका!!!
    Oct 15, 2017
    NITU THAKUR's profile photo
    NITU THAKUR
    +1
    +Vishwa Mohan ji aap jaise kavi ke mukh se wah wah nikle isse behtar kya ho sakta hi waise agar aap meri community me bhi post kare to muze khushi hogi ehsaas meri kalam se
    Oct 15, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +Nitu Thakur पक्का! अपनी कम्युनिटी का लिंक दें. धन्यवाद!
    Oct 15, 2017
    NITU THAKUR's profile photo
    NITU THAKUR
    +Vishwa Mohan EHSAAS- meri kalam se
    EHSAAS- meri kalam se
    EHSAAS- meri kalam se
    Google+ Community
    Oct 15, 2017
    Kusum Kothari's profile photo
    Kusum Kothari
    Moderator
    +1
    जी बहुत सुंदर!!
    सृष्टि के आदि से उपसंहार तक पूर्ण चित्र खिंचती आगम निगम का पुरा विस्तार समेटे भव्य रचना,विविध अंलकारों का सार्थक प्रयोग आपकी रचनाओं से कई नये शब्दों और कई भुले बिसरे शब्दों से पुनः परिचय होता है।
    शुभ दिवस।
    Translate
    Oct 16, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +Kusum Kothari सादर आभार!!!

    ReplyDelete