Saturday, 28 May 2016

बैक-वाटर

           (१)

अल्हड़, नवयौवना नदी
फेंक दी गयी! या कूदी।
पिता पहाड़ की गोदी से,
सरकती, सरपट कलकल
छलछल, छैला समंदर
 की ओर।
पथ पर पसरा पथार,
खाती, पचाती,
घुलाती मिलाती।
ऊसर अंचल थाती
आँचल फैलाती।
कूल संकुल मूल,
नमी का बीज बोती
संगी साथी सबको धोती।
स्वयं पापो की गठरी ढोती!

         (२)

गाँव- गँवई,शहर नगर
ज़िंदा-मुर्दा, लाश,ज़हर
टूटे फूटे गन्दे नालों
का काला पानी,
सल्फर सायनाइड की बिरयानी।
सबकुछ चबाती चीखती।
प्रदुषण के नए भेद सीखती,
हहकारती, कुलबुलाती,
पसरती, सूखती
जवानी लुटाती!
कभी नहरें पी जाती
फिर निगोड़ा सूरज
सोखने लगता।
दौड़ती, गिरती पड़ती
अपने समंदर से मिलती।

          (३)

समंदर!
उसे बाँहों में भरता।
लोट लोट मरता।
लहरों से सजाता।
सांय सांय की शहनाई बजाता
अधरों को अघाता
और रग रग पीता।
फिर दुत्कार देता
वापस ‘ बैक-वाटर’ में।
जैसे, राम की सीता!
वेदना से सिहरती
बेजान, परित्यक्ता
आँसुओं में धोती, पतिता।
सरिता, यादों को
अपने पहाड़ से पिता की!

2 comments:

  1. NITU THAKUR's profile photo
    NITU THAKUR
    Owner
    +1
    बहुत सुंदर रचना बधाई स्वीकार करें
    Translate
    Dec 14, 2017
    Indira Gupta's profile photo
    Indira Gupta
    +1
    वाह क्या खूब ....
    आपका लेखन सदैव हृदय ग्राह्य और विवेचना को उकसाता हुआ होता है .कलम स्वयं चल पढ़ती है ....प्रतिक्रिया के लिये !
    बेहतरीन और रुक कर सोचने के लिये बाध्य करता लेखन ! 🙏
    हर युग दोहराता यहीं कहानी
    अग्नि परीक्षा महज दिखवा
    पुरुष करे सदा मन मानी
    भरी सभा हो या हो जँगल
    परित्यक्ता या अपमान जरूरी
    झूटे दंभ को पोषित करना
    बस ये ही काम जरूरी !
    Translate
    Dec 15, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +2
    +Nitu Thakur आभार!!!!
    Dec 15, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +Indira Gupta आपकी विवेचना भी कम उकसाउ नहीं है! आभार!!!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर विश्वमोहन जी !
    नदी की मर्मान्तक पीड़ा, उसका ठुकराया जाना, उसका दोहन और अंत में उसका उपभोग कर उसका परित्याग - हर परित्यक्ता, हर शोषिता, हर अभागन की, आप-बीती है.

    ReplyDelete