Monday, 20 March 2017

सपनों के साज

दुःख की कजरी बदरी करती , 
मन अम्बर को काला . 
क्रूर काल ने मन में तेरे , 
गरल पीर का डाला . 
ढलका सजनी, ले प्याला , 
वो तिक्त हलाहल हाला// 

मुख शुद्धि करूं ,तप्त तरल 
गटक गला नहलाऊं , 
पीकर सारा दर्द तुम्हारा , 
नीलकंठ बन जाऊं . 
खोलूं जटा से चंदा को, 
पूनम से रास रचाऊं // 

चटक चाँदनी की चमचम 
चन्दन का लेप लगाऊं , 
हर लूँ हर व्यथा थारी 
मन प्रांतर सहलाऊं . 
आ पथिक, पथ में पग पग 
सपनों के साज सजाऊं //

12 comments:

  1. जी नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना गुरुवार २५ अप्रैल २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!!!

      Delete
  2. बेहतरीन प्रस्तुति 👌
    ऐसा लग रहा है की इस रचना को और लिखने का आग्रह करू और पढ़ती ही जाऊ |
    लाजबाब
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके इस आशीष विशेष का !!!

      Delete
  3. चटक चाँदनी की चमचम
    चन्दन का लेप लगाऊं ,
    हर लूँ हर व्यथा थारी
    मन प्रांतर सहलाऊं .
    बहुत ही सुन्दर... लाजवाब प्रस्तुति।
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  4. वाह बेहद शानदार रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका!

      Delete
  5. दुःख की कजरी बदरी करती ,
    मन अम्बर को काला .
    क्रूर काल ने मन में तेरे ,
    गरल पीर का डाला . अद्भुत रचना आदरणीय। वाह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका।

      Delete
  6. Unforgetable saga of love👌👌👌🙏🙏👌

    ReplyDelete