Sunday, 20 May 2018

ज़िंदगी या मैं- वीथिका स्मृति


मेरी छोटी पुत्री वीथिका स्मृति (सह-शोधार्थी, आई आई टी, दिल्ली) की कविता

 " ज़िंदगी या मैं! "


मैं कुछ मन से चाहूँ
ज़िन्दगी उसे मुझसे छीने,
मैं हार कर गिर जाऊं
और ज़िंदगी मुझपे हंसने लगे.
मैं फिर से खड़ी हो जाऊं
और ज़िंदगी पे हंसने लगूं.

ऐसा फिलहाल
दो तीन बार ही हुआ है
कि कुछ मन ने चाहा है
पर ज़िन्दगी ने
मना कर दिया है.

मज़ा आने लगा है
छीना-झपटी के
इस खेल में.
इस बार और मन से चाहूंगी ,
देखती हूँ
कौन जीतता है
ज़िंदगी या मैं !
     _____ वीथिका स्मृति

3 comments:

  1. anchal pandey's profile photo
    anchal pandey
    +1


    वाह बेहद खूबसूरत
    भावपूर्ण हृदयस्पर्शी उत्क्रष्ट रचना
    आपकी पुत्री को ढेरों शुभकामनाएँ
    सादर नमन
    शुभ संध्या
    Translate
    38w
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +1
    +anchal pandey बहुत आभार आपके आशीष का वीथिका को!!!!
    38w
    Indira Gupta's profile photo
    Indira Gupta
    +1

    वाह वाह ...चूहे के जाये बिल ही खौदेगे ...कहावत चरितार्थ कर दी वीथिका ने ...जैसा पिता वैसी पुत्री ....बेमिसाल ....👌👌👌👌👌👌👌
    नन्ही कलम समझ गई
    जिंदगी का खेल
    और समझ कर पंगा करती
    डरती नहीं लवलेश
    जिंदगी की आँख मैं आँख डाल कर
    जो रोज खेल रचाती है
    ऐसी लेखनी स्वयं एक दिन
    गरिमामय हो जाती है !
    नमन विश्व मोहन जी
    नमन वीथिका
    Translate
    38w
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +Indira Gupta बहुत आभार आपके आशीष का वीथिका को!!!!
    38w
    Malti Mishra's profile photo
    Malti Mishra
    +1
    वाह सचमुच भावों की उत्कृष्टता, जीत को छीन लाने की जिद वाह👏👏👏👏
    Translate
    38w
    Kusum Kothari's profile photo
    Kusum Kothari
    Moderator
    +1
    बहुत सुंदर!!
    अप्रतिम भाव सुंदर काव्य।
    सदैव मां शारदा की कृपा बनी रहे विथीका बिटिया पर, आसमान की बुलंदियों को छुती रहे सुकोमल सुमन से सजी रहे विथीका की "विथिकाऐं"।
    Translate
    38w
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +1
    +Malti Mishra बहुत आभार आपके आशीष का वीथिका को!!!!
    38w
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +Kusum Kothari बहुत आभार आपके आशीष का वीथिका को!!!!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब !!!!!! सकारात्मकता भरा सृजन !!! तुमने जो लिखा वो कर दिखाया !!! शाबास वीथिका | हार्दिक शुभकामनायें | यशस्वी भव !!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  3. जी, अत्यंत आभार आपके आशीष का!

    ReplyDelete