Thursday, 10 June 2021

अहंकार

 जमीन से उठती दीवारों

ने भला आसमान कहीं बांटा है!

या अहंकार के राज मिस्त्रियों ने

कभी हवाओं को काटा है!

भेद की भित्तियों के वास्तुकार! 

दम्भ के शोर-गुल में तुम्हारे

 सिमटा जा रहा समय का सन्नाटा है।

तू-तू, मैं-मैं की तुम्हारी 

तुरही की तान ने

हमेशा जीवन के संगीत 

 व लय को काटा है।

ज्वार में अहंकार की

धंसती फुफकारती भंवर-सी

तुम्हारी क्षुद्रता की भाटा है।

उठो, झाड़ो धूल अपने अहं की,

गिरा दो दीवार और महसूसो,

अपनी धरती की एकता को।

एक ही आसमान के नीचे।

28 comments:

  1. वाह।👌
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  2. जमीन से उठती दीवारों

    ने भला आसमान कहीं बांटा है!

    लाजवाब।

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ११ जून २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. बिलकुल सही। अहंकार की दिवार कभी भी एकता रूपी आसमान को नहीं बाँट सकता। ये कुछ भ्रम ही होते हैं जो इसे सत्य मान लेते हैं।
    तो आपने इन अंतिम पंक्तियाँ से सटीक मार्गदर्शन किया है-

    "...
    गिरा दो दीवार और महसूसो,
    अपनी धरती की एकता को।
    एक ही आसमान के नीचे।..."

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बहुत आभार। आपकी बहुरंगी रचनाएं प्रेरणा का प्रखर पुंज हैं।

      Delete
  6. सद्भावना भरे उच्च विचार को साझा करती रचना । आज के दौर में धरती की एकता के विराट विचार को अपनाने की आवश्यकता है। और कवि का परम कर्तव्य इस दिशा में प्रेरणा जगाना है। सार्थक और चिंतनपरक रचना के लिए बधाई और शुभकामनाएं 🙏🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बहुत आभार आपके आशीष का।

      Delete
  7. उठो, झाड़ो धूल अपने अहं की,

    गिरा दो दीवार और महसूसो,

    अपनी धरती की एकता को।

    एक ही आसमान के नीचे।

    अहं को त्याग दे तो अपना ही नहीं औरों का जीवन भी सुधर दे,प्रेरणा देती सुंदर रचना,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके आशीष का!!!

      Delete
  8. तू-तू, मैं-मैं की तुम्हारी
    तुरही की तान ने
    हमेशा जीवन के संगीत
    व लय को काटा है।
    अहंकार को त्याग, विनम्रता को अपनाकर ही जीवन के संगीत का रस लिया जा सकता है। परंतु भेद की भित्तियों के वास्तुकार तो अहंकार की विषबेल को पोसने का काम करते रहते हैं ताकि उनका काम कभी बंद ना हो। प्रेरक सुंदर रचना। सादर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके आशीष का!!!

      Delete
  9. जमीन से उठती दीवारों

    ने भला आसमान कहीं बांटा है!

    या अहंकार के राज मिस्त्रियों ने

    कभी हवाओं को काटा है!

    भेद की भित्तियों के वास्तुकार!

    दम्भ के शोर-गुल में तुम्हारे

    सिमटा जा रहा समय का सन्नाटा है।..जीवन के उच्च मानदंडों को शब्द देती उत्कृष्ट रचना, बहुत बहुत शुभकामनाएं आपको विश्वमोहन जी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके आशीष का!!!

      Delete
  10. अगर यही समझ लें तो फिर लड़ाई ही किस बात की । बाकी कुछ नहीं बंटा सिवाय धरती के , क्यों कि यहाँ आदम जात है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बिल्कुल सही कहा आपने। अत्यंत आभार!

      Delete
  11. काश सही समय पर इंसान ये समझ जाए ... सह अस्तित्व ही जीवन का सार है ...
    इंसान से इंसान का अस्तित्व हो सके ...
    अच्छे शब्दों में सत्य बाँधने का प्रयास ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी,अत्यंत आभार आपकी सारगर्भित टिप्पणी का।

      Delete
  12. Well said, Mr Vishwamohan.
    Am reminded of a few lines from Tagore`s Gitanjali.
    "Where the world has not been broken up into fragments,
    By narrow domestic walls,
    Where the clear stream of reason has not lost his way,
    Into the dreary desert sand of dead habit,
    ....Into that heaven of freedom, let my country awake"

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks a lot for your thought provoking observations!

      Delete
  13. अहंकार का मिटना यानि तू मैं हो जाना!

    ReplyDelete
  14. तू-तू, मैं-मैं की तुम्हारी
    तुरही की तान ने
    हमेशा जीवन के संगीत
    व लय को काटा है।
    धरती की एकता में यही अंहकार ही बाधक है
    बहुत ही सुन्दर चिन्तनपरक लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete