Tuesday, 13 April 2021

माँ, कुछ तुमसे कह न पाया!

 



अहर्निश आहुति बनकर,

जीवन की ज्वाला-सी जलकर,

खुद ही हव्य सामग्री बनकर,

स्वयं ही ऋचा स्वयं ही होता,

साम याज की तू उद्गाता।


यज्ञ धूम्र बन तुम छाई हो,

जल थल नभ की परछाई हो,

सुरभि बन साँसों में आई,

नयनों में निशि-दिन उतराई,

मेरी चिन्मय चेतना माई।


मंत्र मेरी माँ, महामृत्युंजय,

तेरे आशीर्वचन वे अक्षय,

पल पल लेती मेरी बलैया,

सहमे शनि, साढ़ेसाती-अढैया,

मैं ठुमकु माँ तेरी ठइयाँ।


नभ नक्षत्रो से उतारकर,

अपलक नयनों से निहारकर,

अंकालिंगन में कोमल तन,

कभी न भरता माँ तेरा मन,

किये निछावर तूने कण कण।


गूंजे कान में झूमर लोरी,

मुँह तोपती चूनर तोरी,

करूँ जतन जो चोरी चोरी,

फिर मैया तेरी बलजोरी,

बांध लें तेरे नेह की डोरी।


 तू जाती थी, मैं रोता था,

जैसे शून्य में सब खोता था,

अब तू हव्य और मैं होता था,

बीज वेदना का बोता था,

मन को आँसू से धोता था।


सिसकी में सब कुछ कहता था,

तेरी ममता में बहता था,

मेरी बातें तुम सुनती थी,

लपट चिता की तुम बुनती थी,

और नियति मुझको गुनती थी।


हुई न बातें अबतक पूरी,

हे मेरे जीवन की धुरी,

रह रह कर बातें फूटती हैं,

फिर मथकर मन में घुटती है,

फिर भी आस नहीं टूटती है।


कहने की अब मेरी बारी,

मिलने की भी है तैयारी,

लुप्त हुई हो नहीं विलुप्त!

खुद को ये समझा न पाया,

माँ, कुछ तुमसे कह न पाया!







34 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 13 अप्रैल 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. नवरात्रि के पावन पर्व पर,आपकी ये सुंदर रचना मंत्र मुग्ध कर रही है, देवी मां से लेकर जन्मदायिनी मां तक पहुंचती आपकी उत्कृष्ट पंक्तियां मां के विभिन्न स्वरूपों का सुंदर उल्लेख कर रही हैं,सुंदर रचना तथा नववर्ष,नवरात्रि के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (14-04-2021) को  ""नवसम्वतसर आपका, करे अमंगल दूर"  (चर्चा अंक 4036)  पर भी होगी। 
    --   
    मित्रों! चर्चा मंच का उद्देश्य उन ब्लॉगों को भी महत्व देना है जो टिप्पणियों के लिए तरसते रहते हैं क्योंकि उनका प्रसारण कहीं भी नहीं हो रहा है। ऐसे में चर्चा मंच विगत बारह वर्षों से अपने धर्म को निभा रहा है। 
    --
    भारतीय नववर्ष, बैसाखी और अम्बेदकर जयन्ती की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --  

    ReplyDelete
  4. आदरणीय विश्वमोहन जी, जगदम्बा माँ के पावन नवरात्रों में दिवंगत जन्म दात्री का स्मरण करती भावपूर्ण अभिव्यक्ति अपने आप में विशेष है। माँ जो भले सदैव पास नहीं रहती पर माँ से मन का संवाद सदैव बना रहता है, जो अदृश्य, अरूप रहकर भी मन की व्यथा सुनती रहती है। प्रस्तुत रचना में माँ के साथ बीते पलों की स्मृतियाँ मार्मिक शब्दों में जीवंत हो उठी हैं साथ में अनकही पीड़ा जनित भावों की गंगा अविरल बह उठी हैं। बहुधा , यूँ बेटियाँ माँ को याद किया करती हैं पर एक बेटे की ये भावांजलि हृदयस्पर्शी है और भाव -विहल् करती है ,जिसके लिए सराहना के शब्द नहीं। माँ को याद करना भी सच्चे अर्थों में दुर्गा माँ के समस्त रुपों का स्मरण है। आपको हार्दिक बधाई इस रचना विशेष के लिए🙏🙏

    ReplyDelete
  5. हिन्दू नववर्ष, संवत 2078, मिति चैत्र बदी, प्रतिपदा, नवदुर्गा प्रारंभ और बैसाखी की आपको सपरिवार अनन्य शुभकामनाएं💐🙏👏🏼🌸🥀🌺🌷🌹🍁🇮🇳

    ReplyDelete
    Replies
    1. त्योहारों की सपरिवार शुभकामनाएँ!!!

      Delete
  6. मां अनन्त है उसकी कथा अनन्त और अनन्त हैं अभिव्यक्तियां भी मां के लिये। अदभुद ।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  8. माँ के विभिन्न रूपो का वर्णन करती बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना

    ReplyDelete
  10. कहने की अब मेरी बारी,

    मिलने की भी है तैयारी,

    लुप्त हुई हो नहीं विलुप्त!

    खुद को ये समझा न पाया,

    माँ, कुछ तुमसे कह न पाया!

    जन्मदायनी माँ की वंदना कर ली तो कुछ शेष बचा ही नहीं। हमेशा की तरह अद्भुत सृजन ,
    आपको नववर्ष और नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपके आशीर्वचनों का!!!

      Delete
  11. The unseen umbilical cord between a mother and child remains even after being surgically severed at birth. You are anguished at the thought that your were unable to communicate to your mother all that you wished, but she knew anyhow.
    Touching expression! The poem brought tears to my eyes.

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी कविता।सादर अभिवादन

    ReplyDelete
  13. आप तो बहुत ही अच्छा लिखते है, माँ के सम्मान में लिखी गई ये अद्भुत रचना है , एक एक शब्द गहरे भाव से बंधे हुए है,पढ़कर भावुक होना स्वभाविक है, माँ के सीने की हर साँस तपस्या है। नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं, जय माँ भवानी जय माँ अम्बे, सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, आपके सुंदर आशीर्वचन का हृदय से आभार।

      Delete
  14. मंत्र मेरी माँ, महामृत्युंजय,
    तेरे आशीर्वचन वे अक्षय,
    पल पल लेती मेरी बलैया,
    सहमे शनि, साढ़ेसाती-अढैया,
    मैं ठुमकु माँ तेरी ठइयाँ।
    माँ के आँचल की छाँव में सारे कष्ट मिट जाते हैं माँ जब बलाएं लेती है तो सारे ग्रह दोष भी शान्त हो जाते हैं माँ की यादों की और माँ के प्रति अपने उद्गारों की ऐसी उत्कृष्ट भावाभिव्यक्ति आपने की है जो सराहना से परे है...।
    लाजवाब बहुत ही लाजवाब सृजन
    वाह!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, आपके सुंदर शब्दों का हृदय से आभार!!!

      Delete
  15. बस इतना ही कहना है विश्वमोहन जी कि पढ़कर मैं अभिभूत हो गया हूँ।

    ReplyDelete
  16. Replies
    1. जी, आपके अनुपम आशीष का आभार।

      Delete
  17. माँ के अटूट विश्वास नेह के बन्धन में बहुत ही सुन्दरता से बांधा है । अति सुन्दर भाव एवं सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अत्यंत आभार अमृता जी!!!

      Delete