Tuesday, 17 May 2022

फदगुदी

 

(चित्र आधारित कविता, बच्चों के लिए)


फुदक-फुदक कर फदगुदी ने,

फड़-फड़ पर पसराए।

ठोक चोंच तृण नोकों पर,

लोल लाल लसराए।


घासों की हरियाली में,

कीट हरित खप जाए।

चतुर-चंचला गौरैया ये,

झट से गप कर जाए।


गौरैये की नानी ने 

दादी की दाल चुरायी।

बेगारी में मिले अन्न को

खूँटे  में गिरायी।


जब खूँटे ने ना कर दी,

तो गौरैया गुस्साई।

बढ़ई, सिपाही, राजा, रानी

सबको व्यथा सुनाई।


सांप, लाठी, आगी, समुंदर,

हाथी, जाल, घर पहुंची।

दाल दिला दे बिल्ली मौसी, 

चूहा चूँ-चूँ, चीं-चीं!


आगे की सब बात पता है

कैसे बढ़ी कहानी।

बड़ी मुश्किल से दाल को पाई,

गौरये की नानी।


करके याद नानी की बातें,

पाते चट कर जाए।

फुदक-फुदक कर फदगुदी ने,

फड़-फड़ पर पसराए।






32 comments:

  1. ये कहानी हमसे होते हुए हमारे पोते तक तो पहुँच गयी है । बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, कुछ बाल-कहानियाँ तो काल और स्थान दोनों से परे हैं अर्थात कालजयी और सर्व-स्थानिक। बस ज़ुबान अलग, जज़्बात वहीं! अत्यंत आभार!!!

      Delete
  2. पोते का तो अता पता अभी नहीं है, लेकिन भावी दादी को के रचना ज़रूर पसंद आई !!☺️

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, अत्यंत आभार आपका; और साथ में इस रचना का भी, जिसने इतनी सुंदर संभावनाओं का सृजन किया।

      Delete
  3. बहुत प्यारी रचना। बच्चों के लिए सच में बहुत कम रचनाएँ आ रही हैं। कहानी को जब कविता में बुनकर सुनाया जाता है तो वह बड़ी जल्दी याद हो जाती है, ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, हमें भी लग रहा है कि बच्चों की रचनाओं के कम आने के पीछे लोगों का, सोच के स्तर पर, असमय बूढ़ा हो जाना है। अत्यंत आभार!!!!

      Delete
  4. मनमोहक बालगीत ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत सुन्दर, मधुर और रोचक

    ReplyDelete
  6. डॉ विभा नायक (शेफालिका उवाच)19 May 2022 at 13:03

    बहुत प्यारी

    ReplyDelete
  7. नानी की कहानियों का जादू जब सिर चढ़कर बोलता है, फिर मत पूछो क्या-क्या नहीं कर लेते हैं बच्चे
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  9. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २० मई २०२२ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. अत्यंत रोचक, सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति आदरनीय विश्व मोहन जी ।बच्चों को सुनाने के लिए एक अनमोल धरोहर!७ चित्र की पूर्णता को साकार करता शब्दांकन।चिड़िया हमारे जीवन का अभिन्न अंग है ।उसका भावी पीढ़ी से परिचय होना जरुरी है।पर अभिव्यक्ति में रोचकता हो तो वह जल्दी दिल तक पहुंचती है।हार्दिक आभार और शुभकामनाएं 🙏🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके आशीष सदैव हमारा उत्साहवर्द्धन करते हैं। आभार!!!

      Delete
  11. वाह
    अद्धभुत
    खूँटा में दाल बा..

    ReplyDelete
    Replies
    1. का खाऊँ, का पीऊँ, का ले परदेस जाऊँ! जी अत्यंत आभार!!!!

      Delete
  12. मेरे लेखन के प्रिय पात्रों में एक गौरैया रानी पर उत्कृष्ट रचना । मेरी गौरैया पर करीब 20 रचनाएँ हो गई हैं। अभी करीब तीन महीने किचन की खिड़की पर बसेरा किए हुए थीं परिवार सहित । ।
    गौरैया के मनोभावों को व्यक्त करती सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी गौरैयों के प्रति संवेदनशीलता जगज़ाहिर है। अत्यंत आभार आपका!!

      Delete
  13. बाल मन नाच उठा।

    ReplyDelete
  14. Wah ! Bahut hi pyaare expressions ! Mazaa aa gaya 😊 Apne bachpan ke vacations me jab gaon jaate the , dadi se is kahaani ki roj pharmaish kartein the...na dadi kabhi bolte thaki aur na hum kabhi sunte thake......khoote me mor daal hai , ka khaau ka peeyu , ka le pardes jaaon.....gauraiya aur daal ki dastaan👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल सही। ना जाने पिछली कितनी पीढ़ियों से यह कहानी चली आ रही है। लेकिन आगे का कोई भरोसा नहीं, कहा जाकर यह धारा सुख जाय! बहुत आभार आपके यहाँ आने का!

      Delete
  15. कितनी अच्छी कही कहानी, मज़ा आ गया प्यारे, किस्सागोई में तो भैया, हम भी तुमसे हारे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, आपके गुरुत्व का ही प्रभाव है। अत्यंत आभार।

      Delete