Saturday, 25 January 2014

अब तो भाग!

                       लगन की लाग
                                  श्रृंगार का फाग
                                  प्रेम का पाग
                                                प्रणय का राग
                                  चुनर में दाग
चितवन की आग       
                                  विरह का नाग
                                  माया के इस
                                  भ्रम- जाल में
                                  रे मन, क्यों भटके? 
                                  अब तो भाग ! 
अब तो भाग !
     -------- विश्व मोहन