Saturday, 25 January 2014

प्रणीते का त्रास !

अमावस में रजनीश का वनवास,
नील,नीरव, निरभ्र अकेला  आकाश.
भगजोगनियों संग भोगता प्रीत का रास
वसुधा पर ठिठुरती निशा  का वास
झिंगुरों का वक्र  परिहास
सर्द हवाओं का कुटिल अट्टाहास
शनैः शनैः सरकता शारदीय मास
फिर भी धरती की धुकधुकाती आस
कभी  तो मिलेंगे अपने चांद से
दूर क्षितिज के पास
पल पल दिल को दिलाये ये भास
काश, कोई  प्रणीते ना भोगे ये त्रास!
                   --------------- विश्वमोहन
                                      


3 comments:

  1. NITU THAKUR's profile photo
    NITU THAKUR
    Owner
    +1
    chand shabdon me bhav pragat karna koi aap se sikhe bahut hi marmik bat kahi hai....very nice
    Oct 16, 2017
    अमित जैन 'मौलिक''s profile photo
    अमित जैन 'मौलिक'
    Moderator
    +1
    कभी तो मिलेंगे अपने चाँद से। wahh wahh
    Translate
    Oct 16, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +1
    +Nitu Thakur सादर आभार
    Oct 16, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +अमित जैन 'मौलिक' सादर आभार!!!

    ReplyDelete
  2. Kusum Kothari: अतिसुन्दर काव्य कोमल भावों से सुसज्जित,
    एक पंक्ति...
    क्षितिज चाहे मिले नही पर मन आकाश छुआ करता है।
    उत्कृष्ट।
    Vishwa Mohan: वाह! सादर आभार !!!

    ReplyDelete
  3. अमित जैन 'मौलिक''s profile photo
    अमित जैन 'मौलिक'
    Owner
    +1
    वाह बहुत सुंदर। नमन
    Translate
    Oct 15, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    +1
    +अमित जैन 'मौलिक' सादर आभार !!!
    Oct 15, 2017
    Roli Abhilasha (अभिलाषा)'s profile photo
    Roli Abhilasha (अभिलाषा)
    +1
    बहुत सुंदर।
    Translate
    Oct 16, 2017
    Vishwa Mohan's profile photo
    Vishwa Mohan
    सादर आभार !!!

    ReplyDelete